Bekhayali Song Lyrics - Kabir Singh Songs Lyrics

Bekhayali is the song from Shahid Kapoor and Kiara Advani starrer film "Kabir Singh". The song is composed by musician duo Sachet-Parampara and sung by Sachet Tandon himself.


Full Song out now
Play Here


Bekhayali Lyrics

Hmm...Hmm.. Hmm

Bekhayali me bhi tera hi khayal aaye
Kyu bichhadna hai zaroori ye sawaal aaye

Teri nazdeekiyo ki khushi behisaab thi
Hissey mein faasle bhi tere bemisaal aaye

Main jo tumse door hu
Kyu door mai rahu
Tera ghuroor hu

Aa tu faasla mitaa
Tu khwaab sa milaa
Kyu khwaab tod du
oo...oo..

Bekhayali mein bhi tera hi khayaal aaye
Kyun judaai de gaya tu, ye sawaal aaye

Thoda sa main khafaa ho gayaa apne aap se
Thoda sa tujhpe bhi bewajaah hi malaal aaye

Hai ye tadpan, hai ye uljhan
Kaise jee loon binaa tere
Meri ab sab se hai anban
Bante kyu ye Khuda mere
hmm...hmm..

Ye jo log-baag hain
Jungle ki aag hain
Kyun aag mein jalun...
Ye nakaam pyaar me
Khush hai ye haar me
In jaisa kyun banu
oo...oo..


Raatey dengi bata
Neendo me teri hi baat hai
Bhoolun kaise tujhe
Tu to khayalon me saath hai

Bekhayali mein bhi tera hi khayaal aaye
Kyun bichhadna hai zaroori ye sawaal aaye
Oo.. oo..

Nazar ke aage har ik manzar
Ret ki tarah bikhar rahaa hai
Dard tumhaara badan me mere
Zeher ki tarah utar rahaa hai

Nazar ke aage har ik manzar
Ret ki tarah bikhar rahaa hai
Dard tumhaara badan me mere
Zeher ki tarah utar raha hai

Aa zamaane aazmaa le rooth'taa nahi
Faaslo se hauslaa ye toot'ta nahin
Naa hai woh bewafaa aur na mai hoon bewafaa
Woh meri aadato ki tarah chhoot'ta nahi...

बेखयाली में भी तेरा लिरिक्स हिंदी

बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी?, ये सवाल आए
तेरी नज़दीकियों की ख़ुशी बेहिसाब थी
हिस्से में फ़ासले भी तेरे बेमिसाल आए

मैं जो तुमसे दूर हूँ, क्यूँ दूर मैं रहूँ?
तेरा गुरुर हूँ
आ तू फ़ासला मिटा, तू ख्वाब सा मिला
क्यूँ ख्वाब तोड़ दूँ?

बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
क्यूँ जुदाई दे गया तू?, ये सवाल आए
थोड़ा सा मैं खफ़ा हो गया अपने आप से
थोड़ा सा तुझपे भी बेवजह ही मलाल आए

है ये तड़पन, है ये उलझन
कैसे जी लूँ बिना तेरे?
मेरी अब सब से है अनबन
बनते क्यूँ ये खुदा मेरे?

ये जो लोग-बाग हैं, जंगल की आग हैं
क्यूँ आग में जलूँ?
ये नाकाम प्यार में, खुश हैं ये हार में
इन जैसा क्यूँ बनूँ?

रातें देंगी बता, नीदों में तेरी ही बात है
भूलूँ कैसे तुझे? तू तो ख्यालों में साथ है
बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आए
क्यूँ बिछड़ना है ज़रूरी? ये सवाल आए

नज़र के आगे हर एक मंज़र रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे ज़हर की तरह उतर रहा है
नज़र के आगे हर एक मंज़र रेत की तरह बिखर रहा है
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे ज़हर की तरह उतर रहा है

आ ज़माने, आज़मा ले, रूठता नहीं
फ़ासलों से हौसला ये टूटता नहीं
ना है वो बेवफ़ा और ना मैं हूँ बेवफ़ा
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं

Full Video Song